कहानी : सात अजूबे | Hindi Short Moral Story

हे कहानी (Hindi Short Story With Moral) आपको इस दुनिया में सात अजूबे कोनसे हैं , हे बताएंगी और आपके आँखे खोल देंगी ।

सात अजूबे -Hindi Short Story

Hindi Short Moral Story

एक गाँव की रहने वाली स्नेहल दस साल की लड़की थी। उसने अपने गांव में 4 वीं कक्षा तक प्राथमिक विद्यालय में भाग लिया। 5 वीं कक्षा के लिए, उसे पास के शहर के स्कूल में दाखिला लेना था। वह यह जानकर बहुत खुश हुई कि उसे एक शहर के एक बहुत ही प्रतिष्ठित स्कूल में एडमिशन मिल गया था। आज उसके स्कूल का पहला दिन था और वह अपनी स्कूल बस का इंतजार कर रही थी। एक बार बस आने के बाद, वह जल्दी से उसमें बैठ गई। वह बहुत खुश थी।

 

जब बस उसके स्कूल में पहुँची, तो सभी छात्र अपनी कक्षाओं में जाने लगे। स्नेहल भी अपने कक्षा में चली गयी। उसके साधारण कपड़ों को देखकर और यह जानकर कि वह एक छोटे से गाँव से है, अन्य छात्रों ने उसका मजाक बनाना शुरू कर दिया। शिक्षिका जल्द ही पहुंची और उसने सभी को चुप रहने के लिए कहा।

Hindi Short Story

तब शिक्षक ने छात्रों से कहा कि अब तुम्हे कुछ प्रश्न देने वाली हूँ सब तैयार रहें ! उसने दुनिया के 7 अजूबों को लिखने के लिए सभी को कहा। सभी ने जल्दी से जवाब लिखना शुरू कर दिया। स्नेहल ने धीरे-धीरे जवाब लिखना शुरू कर दिया।

जब स्नेहल को छोड़कर सभी ने अपना उत्तर पूरा कर लिया था, शिक्षक ने आकर स्नेहल से पूछा, “क्या हुआ स्नेहल ? घबराओ नहीं , बस वही लिखें जो तुम जानते हो , क्युकी अन्य छात्रों ने इसके बारे में अभी कुछ दिन पहले ही सीखा है ”।

थोडि देर बाद स्नेहल ने जवाब दिया, “मैं सोच रही थी कि बहुत सारी चीजें हैं, जिन्हें मैं लिखने के लिए चुन सकती हूं !” और, फिर उसने अपना उत्तर पेपर शिक्षक को सौंप दिया। शिक्षक ने सभी के उत्तरों को पढ़ना शुरू कर दिया और लगबघ सारे बच्चो ने उन्हें सही उत्तर दिया जैसे द ग्रेट वॉल ऑफ चाइना, पिरामिड, पीसा का लीनिंग टॉवर, ताजमहल, हैंगिंग गार्डन , टेम्पल ऑफ़ अर्टमिस , लाइट हॉउस आदि।

 शिक्षिका बहुत खुश हुई क्योंकि सभी छात्रों को याद था कि उसने उन्हें क्या पढ़ाया था। अंत में शिक्षक ने स्नेहल का पेपर उठाया और पढ़ना शुरू किया।

“7 अजूबे हैं – ऑंखे (जिससे हम देख सखते हैं ), नाक (जिससे सखते हैं ), स्किन (जिससे हम स्पर्श कर सकते है), मुँह (हँसने के लिए) , मन (जीएससे हम सोच सकते है, Kindness (दयालु होने के लिए), Love (प्यार करने के लिए)!”

शिक्षिका स्तब्ध रह गयी और पूरी कक्षा में सन्नाटा छा गया । आज, छोटे से गाँव की एक लड़की स्नेहल ने उन्हें उन अनमोल उपहारों के बारे में याद दिलाया जो भगवान ने हमें दिए हैं, जो वास्तव में एक आश्चर्य है। जो अमर सबसे करीब होकर भी हम उसे अनदेखा करते हैं।

Moral Of This Hindi Short Story :

जीवन में हमको किसीकी जरुरत नहीं हैं। भगवान ने हमें सबकुछ दिया हैं , उसे पहचाने। आउसका उपयोग करें, जो आपके पास है, उस पर विश्वास करें। और आगे बढ़ते रहे।

Final Words :

दोस्तों आपको हे Hindi Motivational Short Story अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिये । और ऐसेही  Hindi Motivational / Love/ Moral Stories In Short पढ़ने के लिए निचे क्लिक कीजिये ।

Hindi Love Story

Hindi Motivational Stories

ankit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *