हे कहानी सुनाने के बाद आपके जीवन के सरे संकट मिट जायेंगे | Hindi Motivational Story With Moral

Hindi Motivational Story With Moral

तो दोस्तों हमारे सभी के जीवन में कुछ ना कुछ परेशानी कुछ ना कुछ कमजोरी होती है। हम सभी को जीवन में कुछ तो भी करना है लेकिन किसी एक कारण के वजह से हम वो चीज नहीं कर पाते हमें जो जीवन में बनना है वह हम नहीं बन पाते।
हे Hindi Motivational Story आफ को उसे आखिरी तक पढ़िए Story के आखिर तक आपको पता लग जाएगा करना है जो बनना है उसे करने के लिए आपको कौन सा कारण रोक रहा है और जो भी कारण हो जैसा भी कारण हो मिट जाएगा।

12 साल का लड़का था खूब बहुत ही गरीब लड़का था उसके एक छोटी सी बहन का बर्थडे था उसके लिए उसे एक उसको गिफ्ट देना था और गिफ्ट था एक कुत्ते का छोटा बच्चा। कुत्ते के छोटे बच्चे को खरीदने के लिए पैसे जमा कर रहे था। बर्थडे अगले दिन था इसलिए वो कुत्ते के बच्चे को खरीदने के लिए दुकान पर गया उधर जा पहुंचने पर उसे पता चला बच्चे की प्राइस 5000 से शुरू होती है बहुत ही नाराज हो गया लेकिन उसे किसी भी हालत में कुत्ते का बच्चा खरीदना ही था। दुकानदार को बोला मेरे पास सिर्फ दो हजार है आप मुझे कुत्ते का बच्चा दे दीजिए मैं बाकी के सारे पैसे कुछ दिनों में लौटा दूंगा।

दुकानदार बोला नहीं बेटा नहीं बेटा मैं ऐसा नहीं कर सकता तू एक काम कर पूरे पैसे जमा कर और बाद में तुझे दे दूंगा। बच्चा बोला नहीं अंकल मुझे अभी चाहिए मेरा बहन का बर्थडे है कल , प्लीज अंकल मुझ पर विश्वास कीजिए मैं आपके सारे पैसे लौटा दूंगा बहुत सारी विनती करने के बाद भी हो अंकल नहीं माने।

hindi success story

बच्चा नाराज होकर उन कुत्तों की तरफ देख रहा था उसने देखा उन सारे बच्चों में से एक बच्चा ऐसा था जो बहुत ही लंगड़ा कर चल रहा था उसे ठीक से चलना भी नहीं आ रहा था तो उस लगड़ाते हुए कुत्ते को देखकर बहुत आश्चर्य हुआ बच्चे ने उसे देख कर दुकानदार को पूछा अंकल कुत्ते को क्या हुआ है ऐसा क्यों चल रहा है। दुकानदार बोला वो बचपन से अपाहिज है इसीलिए उसे चलना नहीं आता। वो ऐसा ही चलता है।

हे सुनने के बाद बच्चा बोला अब तो मुझे यही कुत्ता चाहिए । दुकानदार बोला बेटा है कुत्ता तो मैं तुझे फ्री में दे दूंगा। इसके ऊपर क्यों पैसे खर्च कर रहा है तू। एक काम कर तुझे कुत्ता आज ही चाहिए ना दे वह 2000 दे और कोई दूसरा कुत्ता ले जा और बाकी के पैसे बाद में दे। क्योंकि है कुत्ता दूसरे कुत्तों की तरह तुझसे खेल नहीं पाएगा। अच्छे से दौड़ नहीं पाएगा। दूसरा वाला अच्छा कुत्ता ले जा। बच्चा बोला नहीं मुझे यही कुत्ता चाहिए उसी कीमत में चाहिए जो कीमत दूसरे कुत्तों की है। दुकानदार को आश्चर्य हुआ ऐसा क्यों बेटा ऐसा क्यों ?

बच्चे ने थोड़े पीछे होकर अपनी पैंट ऊपर की दुकानदार ने देखा उस बच्चे की एक पैर नकली था। बच्चा बोला देखा अंकल मैं भी अपाहिज हूं। लेकिन मुझे मेरी मां ने कहा है खुद को कमजोर ना समझ , अगर मैं खुद को कमजोर नहीं समझता हूं तो मैं इस कुत्ते को क्यों समझो और मुझे इस कुत्ते को भी फील करवाना है की वो दुसरो कुत्तों की तरह बहुत शक्तिशाली है , हो कमजोर नहीं है। बाकी कुत्तों की तरह वह भी बहुत नॉर्मल है। इसीलिए मैं उसे ही खरीदना चाहता हूं। दुकानदार के आंखों में आंसू आ गए और उसने हो कुत्ता उसे दे दिया।

दोस्तों इस पृथ्वी पर बहुत सारे लोग हैं जो अपाहिज होकर भी बहुत कुछ कर दिखाया है। पर हम हमने क्या किया है हमारे पास तो किसी की भी कमी नहीं है हमारे पास सब कुछ है फिर भी हम हमेशा कुछ ना कुछ कारण देते रहते हैं कि मेरे पास हे कमी है, मेरे पास वो कमी है हमेशा हमारी परिस्थितियों पर दोष देते हैं इसीलिए हम जीवन में कुछ भी नहीं कर पाते इसीलिए कहता हूं की खुद की जीवन की जिम्मेदारी खुद लीजिए। दुसरो पर ब्लेम करना बंद कीजिए जीवन में कौन सी भी केसीबी परिस्थिति हो स्वीकार कीजिए अपनी कमजोरी को अपनी ताकत बनाइए और जीवन का आनंद से सामना कीजिए और जीवन में जो भी आपको पाना है बनना है उसके लिए हमेशा प्रयत्न करते रहिए।

दोस्तों अगर आपको है Hindi Motivational Story With Moral पसंद आए तो जरूर अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिए और ऐसे ही मोटिवेशनल कहानी पढ़ने के लिए नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक कीजिए।

कहानी : मदत

कहानी सुनकर आँसू नहीं रोक पाएंगे

ankit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *